घबराएं नहीं; कोरोना संक्रमण से मजबूती से सामना कर रहा हिमाचल, ठीक होने वालों का आंकड़ा बढ़ा


कोविड-19 महामारी को हराने के लिए हिमाचल प्रदेश ने प्रभावशाली कदम उठाए हैं। इसके परिणामस्वरूप देश के अन्यों राज्यों में से हिमाचल की स्थिति काफी बेहतर है। लाॅकडाउन के दौरान राहत कार्यों के बीच कोरोना संक्रमित मामलों की रिकवरी में भी हिमाचल ने पूरे देश में स्वयं को अव्वल साबित किया है। 24 जून तक प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 778 मामले आए, जिनमें से 437 व्यक्ति स्वस्थ हो चुके हैं। अन्य मरीजों का उपचार किया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से 6 लोगों की मृत्यु हुई है। यह सभी लोग देश के अन्य भागों से वापस आए थे और गंभीर बीमारियों से पीड़ित थे। गौरतलब है कि हिमाचल में कोरोना वायरस संक्रमण का पहला मामला 19 मार्च को सामने आया था।


कोरोनामुक्त होने वाला था हिमाचल, फिर इस तरह हुई मामलों में वृद्धि
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार के बेहतर स्वास्थ्य प्रबंधन से 4 मई को प्रदेश कोरोना मुक्त होने वाला था। इसी बीच राज्य सरकार द्वारा अपनाए गए मानवीय दृष्टिकोण और प्रभावी निर्णय के परिणामस्वरूप लगभग दो लाख हिमाचलवासियों को दूसरे राज्यों से वापस लाया गया। दूसरे राज्यों से वापस आए व्यक्तियों के बाद ही कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि हुई। क्वारन्टीन मानदंडों के अनुसार ही दूसरे राज्यों से वापस आए व्यक्तियों को उनके घर भेजा जा रहा है। अप्रवासी हिमाचलवासियों और अप्रवासी श्रमिकों को प्रदेश में 14 दिन का क्वारन्टीन अवधि का कड़ाई से पालन करवाया जा रहा है। इससे कोरोना के संभावित सामुदायिक फैलाव को रोकने में मदद मिल रही है।  


‘‘निगाह’’ के माध्यम से पढ़ाया जागरूकता का पाठ
हिमाचल सरकार ने बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों के परिजनों को सामाजिक दूरी के बारे में शिक्षित करने के लिए ‘‘निगाह’’ कार्यक्रम आरंभ किया। इसके तहत राज्य में वापस आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की समुचित स्वास्थ्य जांच की गई। उसकी यात्रा का पूरा विवरण भी लिया गया। आशा, स्वास्थ्य और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा बाहरी राज्यों से वापस लौटे हिमाचलवासियों के घर जाकर उनके परिजनों को सामाजिक दूरी बनाए रखने के महत्व के बारे में शिक्षित किया गया।


कारगर साबित हो रहा ‘‘एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान’’
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के दूरदर्शी नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने एक अप्रैल 2020 से एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान आरंभ किया। 16 हजार से अधिक स्वास्थ्य तथा आशा कार्यकर्ता घर-घर गए। राज्य में इन्फलुएंजा लक्षणों वाले व्यक्तियों के संबंध में जानकारी हासिल की। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने इस अभियान की सराहना की और देश के कुछ राज्यों ने इसे अपनाया भी। मजबूत इरादों और दृढ़ संकल्प शक्ति से मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के नेतृत्व में राज्य सरकार कोरोना संकट से हिमाचल को उबारने में निरंतर प्रयत्नशील है। यहां जीवन पटरी पर लौटने लगा है।

Comments