हिमाचल पुलिस की ऐतिहासिक पहल, शुरू की आगंतुक सर्वेक्षण व ई-रात्रि बीट चैकिंग प्रणाली

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने किया शुभारंभ
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने आज हिमाचल प्रदेश पुलिस विभाग के लिए पुलिस स्टेशन आगंतुक सर्वेक्षण प्रणाली और ई-रात्री बीट चैकिंग प्रणालियों का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन दोनों प्रणालियों से पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली में और सुधार आएगा क्योंकि पुलिस को अपनी कार्यप्रणाली के बारे में जहां वास्तविक फीडबैक मिलेगी, वहीं इसमें सुधार के लिए आवश्यक कदम उठाने में सहायता मिलेगी। पुलिस स्टेशन आगंतुक सर्वेक्षण प्रणाली को https://form.jotform.com/HPPolice/police-station-visitor-survey वेबसाईट से जोड़ा जाएगा। इस प्रणाली का इस्तेमाल पुलिस थानों, पुलिस चैकियों और पुलिस की अन्य इकाइयों में आगंतुकों की निगरानी के लिए किया जाएगा तथा इससे आगंतुकों का डेटा आगंतुक सर्वेक्षण व ई-रात्री बीट चैकिंग प्रणालि बेस तैयार करने में भी मदद मिलेगी। पुलिस थानों, पुलिस चैकियों और यातायात इकाइयों में आने वाले आगंतुकों अथवा शिकायतकर्ताओं से सर्वेक्षण लिंक को भरने का आग्रह किया जाएगा। इस लिंक को पुलिस सोशल एवं प्रिंट मीडिया, जनमंच बैठकों, नशा निवारण समिति की बैठकों, सामुदायिक पुलिस बैठकों आदि के माध्यम से आम जनता से साझा किया जाएगा।
प्रणाली के माध्यम से पुलिस के प्रति दे सकेंगे टिप्पणी व सुझाव 
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि ऑनलाइन सर्वेक्षण प्रणाली जिले और उससे संबंधित पुलिस स्टेशन, शिकायतकर्ता किस अधिकारी से मिला, आने का समय और उद्देश्य तथा पुलिस थाने या चौकी में कितना समय बिताया आदि सूचनाएं एकत्र करेगा। इस प्रणाली से यह जानकारी भी मिलेगी कि शिकायतकर्ता के साथ पुलिस का व्यवहार कैसा रहा। उन्होंने कहा कि शिकायतकर्ता पुलिस कर्मचारियों के प्रति यदि टिप्पणी देना चाहे तो वह अपना नाम व फोन नंबर भी दे सकता है और यह सुनिश्चित बनाया जाएगा कि उसकी पहचान गोपनीय रहे।

गलत प्रतिक्रिया देने से बचें
सर्वेक्षण में एक तंत्र यह भी शामिल किया गया है कि यदि कोई व्यक्ति नकली प्रतिक्रिया देता है तो उसकी पहचान करना संभव होगा। जिले में कार्यरत पुलिस अधीक्षक, रेंज आईजी और पुलिस मुख्यालय स्तर पर जनता की ओर से आने वाली प्रतिक्रिया की निगरानी भी इस सर्वेक्षण प्रणाली के अंतर्गत की जा सकेगी। जनता से मिलने वाली प्रतिक्रिया और सुझावों से पुलिस की कार्यप्रणाली में निश्चित रूप से सुधार होगा और प्रदेश के नागरिकों को बेहतर पुलिस सेवा प्रदान की जा सकेगी।
संदिग्ध वाहनों व अपराधियों पर रहेगी नजर
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि ई-रात्री बीट चैकिंग प्रणाली को पासवर्ड संरक्षित वेबसाईट osclkbZV  http://bit-ly/eNight से लिंक किया जाएगा, जो ड्यूटी पर तैनात सभी पुलिस कर्मियों के पास उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि इस प्रणाली से पुलिस को रात के समय चलने वाले संदिग्ध वाहनों और अपराधियों पर नजर रखने तथा संदिग्धों का डेटाबेस बनाने में सहायता मिलेगी। इस प्रणाली से तैयार किया जाने वाला डेटाबेस पुलिस को आपराधिक मामलों की जांच और संपूर्ण राज्य में पुलिस विभाग द्वारा स्थापित किए गए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के साथ पुष्टि करने में मदद करेगी। इस प्रणाली में एक विशेष प्रावधान किया जाएगा, जिसके माध्यम से पुलिस संदिग्धों की फोटो, पहचान पत्र और वाहन के दस्तावेजों की फोटो लेकर इस प्रणाली में ऑनलाईन अपलोड कर सकेगी।
बद्दी के पुलिस अधीक्षक ने विकसित की दोनों प्रणालियां
ई-रात्री बीट चैकिंग प्रणाली स्वचालित रूप से दिनांक, समय और जो पुलिस कर्मी बीट पैट्रोलिंग अथवा रात्रिगश्त पर होगा, उसकी जीपीएस की सूचना प्राप्त करेगी। इस प्रणाली से नागरिकों की बेहतर सुरक्षा के लिए सड़कों पर पुलिस की उपस्थिति निश्चित करने में भी मदद मिलेगी। पुलिस महानिदेशक श्री एसआर मरडी ने कहा कि इन दोनों प्रणालियों को बद्दी के पुलिस अधीक्षक श्री रोहित मालपानी ने विकसित किया है। इन प्रणालियों से पुलिस विभाग को अपने स्वमूल्यांकन करने और विभागीय कार्यप्रणाली सुधार करने में सहायता मिलेगी। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री वेणुगोपाल राव ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा।



Comments