मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100 के लिए आकर्षक नाम और LOGO डिजाइन करें, जीतें ₹5 हजार

हिमाचल सरकार द्वारा राज्य में शुरू की गई ‘‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100’’ का नाम और आकर्षक बनाने तथा ‘‘LOGO’’ डिजाइन करने के संबंध में सरकार ने आम नागरिकों से सुझाव आमंत्रित किए हैं। प्रतिभागियों को हेल्पलाइन का आकर्षक नाम और डिजाइन किया गया ‘‘लोगो’’ माईगव पोर्टल की वेबसाइट https://himachal.mygov.in/  पर भेजने होंगे। इसकी अंतिम तिथि अब 26 से बढ़ाकर 29 फरवरी निर्धारित की गई है। विशेष है कि दोनों प्रतियोगिता के विजेता प्रतिभागियों को राज्य सरकार द्वारा पांच-पांच हजार रुपए की पुरस्कार राशि प्रदान किए जाएंगे। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को अपना स्थायी पता तथा मोबाइल नंबर भी माईगव पोर्टल पर भेजना होगा। इसके अतिरिक्त ‘‘लोगो’’ डिजाइन करने वाले प्रतिभागी को डिजाइन किए गए ‘‘लोगो’’ की सीडीआर फाइल संभाल कर रखनी होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रतियोगिता जीतने पर प्रतिभागी को सीडीआर फाइल सरकार को प्रदान करनी होगी।
उल्लेखनीय है कि हिमाचल प्रदेश में सरकार ने जनशिकायतों का त्वरित निपटारे हेतु ‘‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100’’ को शुरू किया है। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने बजट 2019-20 में ‘‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100’’ सेवा को शामिल किया था। 7 मार्च, 2019 को मुख्यमंत्री ने शिमला के समीप टूटीकंडी स्थित आईएसबीटी पार्किंग भवन में ‘‘मुख्यमंत्री हेल्पलाइन’’ कार्यालय की आधारशीला रखी थी। 16 सितम्बर, 2019 को मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने ‘‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100’’ शुभारंभ किया था।

‘‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100’’ के साथ पंजीकृत कॉल को सिस्टम द्वारा स्वयं ही संबंधित विभाग को सौंपा जाएगा। इसमें चार स्तरीय शिकायत प्रणाली की योजना बनाई गई है। स्तर-1 पर खंड, स्तर-2 पर तहसील, स्तर-3 पर जिला तथा स्तर-4 पर राज्य है। सभी अधिकारी समयसीमा में शिकायत का निवारण कर रहे हैं। यदि समय सीमा पार हो गई है या शिकायतकर्ता असंतुष्ट है तो समस्या अगले स्तर पर भेज दी जाती है। शिकायतकर्ता की संतुष्टि के बाद ही शिकायत बंद की जाती है। राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन को प्रभावशाली बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी स्वयं तथा कैबिनेट मंत्री इसकी प्रगति की निगरानी करते हैं। यह हेल्पलाईन प्रातः 7 से शाम 10 बजे तक क्रियाशील रहती है।

Comments

  1. बहुत बढ़िया प्रयास
    लेकिन अधिकारियों का सम्वेदन शील होना जरूरी

    झूठ बोल कर बन्द हो रही शिकायत

    लेकिन आम लोगों की सहायता के लिए बहुत लाभदायक योजना

    शिकायत के लिए व्हाट्सएप नंबर भी दिया जाए जो शिकायत लिखते है बे ठीक नही लिख पाते कभी कभी

    ReplyDelete
  2. Sir karmchary Rong reepot daal rhey h or 1100 help line kee campland ko apney AAP bund Kar deya jaa RHA h Jes say gareeb aadmee kee koee sunwiee nhee ho Rhee or panchat kay samechotto ko koee adeekaaree karmchary nhee deke rhey h un par kaarbaaee kee jaye sir

    ReplyDelete
  3. Koi Adhikari mauka dekhne Nahin Aata yah

    ReplyDelete
  4. Koi Adhikari mauka dekhne Nahin Aata hi

    ReplyDelete
  5. आम जनता की आवाज

    ReplyDelete
  6. जनता की आवाज

    ReplyDelete
  7. लोगों की समस्या को गंभीरता से लें अधिकारी। शिकायतकर्ता की बिना अनुमति से शिकायत को बंद ना करें कई बार उच्च अधिकारी अपनी मर्जी से शिकायत को बंद कर देते हैं । करुणामूलक आधार पर नौकरी और को 11 सो नंबर के साथ जोड़े ।

    ReplyDelete
  8. मेरी अपने इलाके की तीन कंप्लेंट अच्छी जिनका अभी तक कोई भी निवारण नहीं किया गया

    ReplyDelete

Post a comment