मुख्यमंत्री सेवा संकल्प की सफलता का पहला कदम...

जनता घोषणाएं और वायदे नहीं, समाधान चाहती है और इसी दृष्टि से मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के नेतृत्व वाली हिमाचल सरकार ने राज्य में ‘‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100’’ शुरू की है। इस सेवा को शुरू हुए अभी मात्र एक सप्ताह ही हुआ है लेकिन सफलता का कदम उठा लिया है। बता दें कि अब तक हेल्पलाइन में 7 हजार से अधिक लोगों ने शिकायतें दर्ज करवाई है। इनमें से 1500 से अधिक शिकायतों का निपटारा भी किया जा चुका है। शेष शिकायतों पर युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है। कार्यप्रणाली की प्रगति को देखते हुए एक-दो सप्ताह के भीतर ही शेष शिकायतों का समाधान हो जाएगा।
विशेष है कि हेल्पलाइन के माध्यम से प्रदेश सरकार के पास ऐसी शिकायतें पहंुची हैं जिनका समाधान कई सालों से नहीं हो पा रहा था, लेकिन अब त्वरित निदान हो रहा है। जिला कांगड़ा से संबंध रखने वाले एक शिकायतकर्ता ने बताया कि उन्हें जब हेल्पलाइन के बारे में उन्हें जानकारी प्राप्त हुई तो पहले यकीन नहीं हो रहा था कि उनकी वर्षों से लंबित पड़ी शिकायत का समाधान त्वरित हो जाएगा। बावजूद इसके उन्होंने हेल्पलाइन का टोल फ्री नंबर 1100 डायल किया और हेल्पलाइन पर तैनात कर्मी ने शालीनता से उनकी बात सुनी तथा शिकायत दर्ज की।
इसके साथ ही कर्मचारी ने संबंधित विभाग को शिकायत भेजी और विभागीय अधिकारियों व कर्मचारियों ने प्राथमिकता के तौर पर उचित समय पर समस्या का समाधान भी कर लिया। उसके उपरांत हेल्पलाइन के कर्मियों ने शिकायतकर्ता से बात की और उनसे पूछा कि क्या वे शिकायत का समाधान पाकर संतुष्ट हैं? इस पर शिकायतकर्ता ने संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने हेल्पलाइन शुरू करके प्रदेशवासियों को राहत पहुंचाने का कार्य किया है।
यह कहना लाजमी होगा कि हेल्पलाइन ने सफलता का पहला कदम उठा लिया है। जाहिर है कि इस सेवा के दूरगामी परिणाम काफी सफल होंगे।

हेल्पलाइन में इस तरह दर्ज हो रही शिकायतें
उल्लेखनीय है कि प्रदेश के कई लोग मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी से मुलाकात कर उन्हें अपनी समस्याओं से संबंधी ज्ञापन सौंपते हैं, कुछेक मुख्यमंत्री कार्यालय को ई-मेल या डाक के माध्यम से शिकायत पत्र भेजते हैं, इसके अलावा कोई हेल्पलाइन की वेबसाइट पर शिकायती फॉर्म भरते हैं और अब अधिकतर लोग टोल फ्री नंबर 1100 डायल करते हैं। इस तरह की शिकायतों यानी सभी प्रकार से भेजी जाने वाली शिकायतों को हेल्पलाइन में ही दर्ज किया जाता है। शिकायत दर्ज होने के उपरांत उन्हें संबंधित विभागों को समाधान हेतु भेजा जाता है।

कांगड़ा जिला की सबसे अधिक शिकायतें दर्ज
मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100 में राज्य के सभी जिलों से शिकायतें दर्ज हुई हैं। खास बात यह है कि सबसे अधिक शिकायतें जिला कांगड़ा की दर्ज हुई हैं। 23 सितम्बर तक दर्ज आंकड़े के तहत हेल्पलाइन में जिला कांगड़ा की 1548 शिकायतें दर्ज हुई हैं, इसके अलावा मंडी की 1241, शिमला की 872, बिलासपुर 679, चंबा 327, हमीरपुर 518, किन्नौर 41, कुल्लू 289, लाहौल-स्पीति 6, सिरमौर 417, सोलन 571 और जिला ऊना की 492 शिकायतें दर्ज हुई हैं। दर्ज शिकायतों के अधिकतर निपटारे किए जा चुके हैं, जबकि शेष शिकायतों पर युद्धस्तर पर कार्रवाई की जा रही है।
https://youtu.be/IzPzW9myAfE





Comments

  1. कुछ शिकायतों का निपटारा क्या है

    ReplyDelete
  2. कुछ शिकायतों का निपटारा अभी तक नहीं किया गया है मैंने एग्रीकल्चर से रिलेटिव एक शिकायत दर्ज कराई गई थी यह शिकायत 19 सितंबर 2019 को दर्ज कराई गई थी जिसका की शिकायत नंबर 65565है
    यह शिकायत एग्रीकल्चर के विभाग व प्रदेश स्तर पर सीट का मूल्य तय किए जाते हैं वह मूल्य मार्केट से दोगुने जादे हैं
    लहसुन का रेट मार्केट में AAA 130 से ₹140 बिक रहा है और एग्रीकल्चर मीडियम साइज का लेसन ₹210 किसानों को कर रहा है जिसमें की यह सीट मीडियम साइज एवं इसका मार्केट रेट 60से ₹80 प्रति किलो है

    ReplyDelete
  3. Brain ke operation ke liye ayushman card chalata h ki nahi

    ReplyDelete

Post a Comment