हिमाचल सरकार ने UAE से की प्रदेश में निवेश के लिए मंत्रणा

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी और उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह जी के नेतृत्व में सोमवार को दुबई में यू.ए.ई. के पर्यावरण बदलाव एवं पर्यावरण मंत्री डा. थनी अल जियोदी से भेंट की तथा ने उनसे पर्यटन व रियल इस्टेट क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा की। मुख्यमंत्री ने डा. जियोदी को हिमाचल प्रदेश में आयोजित की जा रही इन्वेस्टर्ज मीट में शामिल होने के लिए भी आमंत्रित किया। प्रतिनिधिमंडल ने बाद में दुबई चैम्बर आफ कॉमर्स के अध्यक्ष माजिद सैफ अल घुरैर के साथ भी बैठक की। चैम्बर के उपाध्यक्ष हसन अल हाशमी ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और आश्वासन दिया कि चैम्बर इन्वेस्टर्ज मीट के आयोजन के लिए हिमाचल को भरपूर सहयोग देगा। बैठक में निर्णय लिया गया कि हिमाचल सरकार उन परियोजनाओं की सूची चैम्बर को उपलब्ध करवाएगी जिनमें निवेश की अधिक संभावनाएं हैं।
डॉ. जियोदी ने हिमाचल सरकार को हरसंभव सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया तथा यूएई दौरे पर आए हिमाचल के प्रतिनिधिमंडल की कुछ महत्वपूर्ण बी2जी बैठकें भी आयोजित करने का भरोसा दिया। उन्होंने यूएई के व्यावसायिक समुदाय को हिमाचल में आयोजित होने वाली निवेशकों की बैठक में भाग लेने के लिए निमंत्रण भेजा भेजने का भी आश्वासन दिया। अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, अतिरिक्त मुख्य सचिव (उद्योग) मनोज कुमार, राम सुभग सिंह, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक, मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह और सीआईआई हिमाचल प्रदेश के प्रतिनिधि इस अवसर पर उपस्थित थे।

हिमाचल प्रदेश ने किया शाराफ समूह के साथ समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित
प्रदेश सरकार हिमाचल के समग्र एवं सतत् विकास के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है, जिससे राज्य में निवेश को बढ़ाया और राज्य को औद्योगिक हब एवं केन्द्र बनाया जा सके। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने यह जानकारी बिजनेस लीडर्ज फोरम के प्रमुख बिजनेस लीडर्ज को सम्बोधित करते हुए आज दुबई में दी। हिमाचल सरकार, भारतीय उच्चायोग, यूएई में कांउसलेट जनरल और कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज (सीआईआई) हिमाचल प्रदेश द्वारा आयोजित होने वाले ‘‘रोड शो’’ के लिए यू.ए.ई. के चार दिवसीय दौरे पर दुबई में हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में निवेश को बढ़ावा देने के लिए औद्योगिक नीति के माध्यम से आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान कर रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार हिमाचल को निवेश के लिए और अधिक आकर्षक एवं उद्योग मित्र बनाने के लिए अपनी नीतियों में सुधार कर रहा है। उन्होंने कहा कि पर्यटन लॉजिस्टिक्स, अरोमा हाउसिंग और रियल एस्टेट, आई.टी एवं इलैक्ट्रॉनिक्स जैसे  क्षेत्रों के भी नीतियां बना रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का ध्येय हिमाचल प्रदेश को भारत का एक प्रमुख निवेश गंतव्य बनाना है। उन्होंने कहा कि राज्य सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उपक्रमों के विकास के लिए व्यापार सांझेदारियों पर विशेष बल दे रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार राज्य में व्यापार में सुगमता को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक कदम उठा रही है, जो राज्य को भारत सरकार द्वारा दी गई बेहतर रैंकिंग से जाहिर होती है। उन्होंने कहा कि हिमाचल व्यापार में सुगमता सुधारों के लिए राष्ट्र में अब शीर्ष राज्यों में आता है। शाराफ समूह एवं हिमाचल प्रदेश सरकार के मध्य इस अवसर पर लॉजिस्टिक पार्क, ड्राई पोर्ट तथा सहायक अधोसंरचना में निवेश अवसरों को ढूंढने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर भी किए।
बिजनेस लीडर्ज फोरम के सदस्यों को ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के लिए किया आमंत्रित
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर बिजनेस लीडर्ज फोरम के सदस्यों को धर्मशाला में आयोजित की जाने वाली ग्लोबल इंवेस्टर मीट में भाग लेने और व्यापार एवं सहयोग के अवसरों को खोजने के लिए निमंत्रण दिया। उन्होंने कहा कि एक बार हिमाचल आएंगे, तो हमें विश्वास है कि आपका यहां से जाने का मन नहीं करेगा तथा हिमाचल इस प्रकार की सुविधा एवं अवसर प्रदान करता है। उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह ने इस अवसर पर अपने सम्बोधन में भारतीय उद्यमियों की सराहना की, जिन्होंने यू.ए.ई. को वैश्विक व्यापार गंतव्य बना दिया है। उन्होंने इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा देश एवं विदेश में व्यापार समुदाय तक पहुंचने के लिए उठाए गए कदमों की सराहना की। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में व्यापार अनुकूल वातावरण बनाया गया है। उन्होंने निवेशक समुदाय से राज्य में निवेश करने का आह्वान किया। मुख्यमंत्री ने इस दौरान एमएमएस के अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक डॉ. अनिल शर्मा, अल गुरैर इंवेस्टमेंटस के अध्यक्ष एस्सा गुरैर, दुबई में आस्ट्रेलिया सरकार के आयुक्त व्यापार एवं विकास पंकज सवेरा तथा शाराफ समूह के उपाध्यक्ष शराफुदीन के साथ भी बैठकें की।
इंडिया-मिडल ईस्ट एग्रो ट्रेड इंडस्ट्री एंड इंवेस्टमेंट फोरम से मंत्रणा
हिमाचल सरकार के प्रतिनिधिमंडल ने इंडिया-मिडल ईस्ट एग्रो ट्रेड इंडस्ट्री एंड इंवेस्टमेंट फोरम के अध्यक्ष सुधाकर तोमर से बैठक की, आईएमईए-टीआईआईएफ के पास बहुराष्ट्रीय कृषि और खाद्य प्रणाली व्यवस्था श्रृंखला है। अतिरिक्त मुख्य सचिव (उद्योग) मनोज कुमार ने राज्य द्वारा खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में दिए जा रहे प्रोत्साहनों के बारे में जानकारी दी। सुधाकर तोमर ने इस अवसर पर कहा कि वह हिमाचल में अदरक की सोर्सिंग तथा बागवानी प्रसंस्करण में उपलब्ध अवसरों को खोजना चाहते हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, अतिरिक्त मुख्य सचिव (उद्योग) मनोज कुमार, अतिरिक्त मुख्य सचिव (पर्यटन) राम सुभग सिंह, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक, मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह और सीआईआई हिमाचल प्रदेश के प्रतिनिधि इस अवसर पर उपस्थित थे।

दुबई के लूलू इंटरनेशनल ग्रुप को हिमाचल में निवेश करने के लिए किया आमंत्रित 
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी की अध्यक्षता में प्रदेश के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने लूलू इंटरनेशनल ग्रुप, दुबई यु.ए.ई. के अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक युसुफ अली एम.ए. से गत रविवार सायं बैठक की। इस बैठक में पर्यटन और आतिथ्य सत्कार क्षेत्रों में निवेश की संभावनाओं पर चर्चा की गई। मुख्यमंत्री ने इस बैठक में गु्रप को शॉपिंग मॉल व हाईपरमार्केट क्षेत्रों में प्रदेश के मुख्य पर्यटक स्थलों शिमला, मनाली, धर्मशाला के अलावा औद्योगिक क्षेत्रों में भी निवेश के लिए आमंत्रित किया। प्रतिनिधिमंडल ने सहयोग के विभिन्न क्षेत्रों पर विस्तृत चर्चा की तथा हिमाचल में नवम्बर, 2019 में आयोजित की जाने वाली हिमाचल प्रदेश ‘‘ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट 2019’’ में लूलू ग्रुप को भाग लेने के लिए आमंत्रित किया। उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह ने निवेश के लिए उपयुक्त माहौल प्रदान करने के लिए हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि हिमाचल में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश की व्यापक संभावनाएं उपलब्ध हैं।
राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के गतिशील नेतृत्व में निवेश आकर्षित करने के लिए विभिन्न प्रक्रियाओं का सरलीकरण किया है। युसुफ अली ने इस बैठक में गु्रप के विभिन्न व्यवसायों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार मांग के अनुरूप ग्रुप फल प्रसंस्करण एवं खरीद और छोटे शॉपिंग मॉल के क्षेत्रों में संभावनाओं को तलाशेगा। उन्होंने कहा कि तुरंत एक टीम का गठन किया जाएगा जो आगामी 20 से 30 दिनों के भीतर हिमाचल प्रदेश का दौरा कर सहयोग के क्षेत्रों के बारे में पता लगाएगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी ने कहा कि राज्य से फल एवं सब्जी सोर्सिंग के क्षेत्र में सहयोग के अवसर खोजे जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि रियल एस्टेट और शहरी विकास क्षेत्रों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए राज्य ने अनेक पग उठाए हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव (उद्योग) मनोज कुमार ने इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में निवेश के लिए उपलब्ध अनुकूल वातावरण और लाभों पर प्रकाश डाला। अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटक राम सुभग सिंह, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक, मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह और सीआईआई हिमाचल प्रदेश के प्रतिनिधि इस अवसर पर उपस्थित थे।


Comments

  1. Welcome Dubai our honorable c.m Shri JaiRam Thakur .

    ReplyDelete

Post a Comment