मुकेश अंबानी सहित नामी उद्योगपति हिमाचल में करेंगे निवेश!

वह दिन दूर नहीं जब हमारा हिमाचल विकास के शीर्ष पर होगा! ऐसा इसलिए क्योंकि मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के परिश्रम एवं सराहनीय प्रयासों से प्रदेश ने विकास की नई गाथा लिखना शुरू कर दी है..! मुख्यमंत्री जी ने मुम्बई के दो दिवसीय दौरे के दौरान हिमाचल में निवेश करने संबंधी मशहूर निवेशकों से सार्थक बैठकें की। ऐसे में कई उद्योगपतियों ने निवेश करने की इच्छा जताई है तथा विभिन्न क्षेत्रों में निवेश हेतु प्रदेश सरकार के साथ एमओयू साइन भी किए। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने मुम्बई में रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष श्री मुकेश अंबानी से भेंट की तथा उनसे प्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर विस्तृत चर्चा की। मुख्यमंत्री ने रिलायंस गु्रप को राज्य सरकार द्वारा नवम्बर माह में धर्मशाला में आयोजित होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टरस् मीट के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में निवेश के इच्छुक उद्यमियों के लिए अनेक सुविधाएं प्रदान कर रही है। इनमें भूमि बैंक, निर्बाध विद्युत आपूर्ति तथा जिम्मेवार प्रशासन जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

हिमाचल में जियो नेटवर्क को सुदृढ़ बनाएंगे अंबानी
श्री मुकेश अंबानी ने राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में नई ऑप्टिकल फाईबर लाईन बिछाकर जियो नेटवर्क को सुदृढ़ बनाने में रूचि दिखाई। उन्होंने फलों और सब्जियों के लिए कटाई से पूर्व फसल प्रबंधन के अतिरिक्त बद्दी, बरोटीवाला और नालागढ़ क्षेत्रों में मोबाइल फोन इकाइयां स्थापित करने के लिए कंपनी की टीम को राज्य का दौरा कर इससे जुड़ी गतिविधियों को अंतिम रूप देने का आश्वासन दिया। उन्होंने विशेषकर धर्मशाला में रिजॉर्ट स्थापित करने की इच्छा भी व्यक्त की। उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, राम सुभग सिंह और मनोज कुमार, प्रधान सचिव प्रबोध सक्सेना, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक और मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

हिमाचल सरकार ने महिंद्रा ग्रुप के साथ 300 करोड़ के समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर
हिमाचल सरकार ने आज मुम्बई में मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी की उपस्थिति में सोलन जिले के कंडाघाट, मंडी जिले के जंजैहली, कौलडैम और धर्मशाला में महिन्द्रा रिजोर्ट में निवेश के लिए मै. महिन्द्रा रिजोर्ट के साथ 300 करोड़ रुपये के समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर महिन्द्रा होलीडेज व रिजोर्टस के अध्यक्ष अरुण नंदा भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने मुम्बई के उद्योग घरानों के प्रतिनिधियों व प्रमुखों के साथ बिजनेस टू गवर्न्मन्ट (बी2जी) बैठक भी की। उन्होंने आरपीजी इंटरप्राईज के अध्यक्ष हर्ष गोयंका से मुलाकात कर जिला सोलन के वाक्नाघाट के आई.टी. पार्क में निवेश के बारे में चर्चा की। हर्ष गोयंका ने कहा कि उनकी कंपनी प्रदेश में रबड व चाय की खेती को लेकर निवेश की संभावनाएं तलाश रही है क्योंकि उनकी कंपनी इस क्षेत्र में है। कंपनी राज्य में संभावित विकल्प तलाश रही है। सरकार ने उन्हें सुझाव दिया कि हिमाचल प्रदेश कान्ट्रेक्ट फारमिंग के लिए अनुकूल है।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने डी.पी. वर्ल्ड के प्रतिनिधियों से मुलाकात की जिन्होंने बद्दी में लॉजीस्टिक सेक्टर और ड्राई पोर्ट में निवेश में रुचि दिखाई। राज्य सरकार ने डी.पी. वर्ल्ड से लॉजीस्टिक सेक्टर को लेकर प्रस्ताव पेश करने का सुझाव दिया ताकि बद्दी क्षेत्र में लॉजीस्टिक पार्क की संभावना खोजी जा सके। मुख्यमंत्री ने चीफ कांउसंल इंडिया और एएमईए, मोनडेलिजी इंडिया, स्री पटेल, सीओओ यूनाईटेड फोस्फोरस लिमिटेड सागर कौशिक से एक-एक करके मुलाकात की। कंपनी बागवानी के साथ-साथ सेब और संतरे की खरीद कर उन्हें खुदरा व्यापारियों को वितरण का व्यापार भी करती है। उन्होंने भारत में उनके उत्पादों और विस्तार के बारे में मुख्यमंत्री को एक प्रस्तुति दी। कंपनी हिमाचल प्रदेश में वर्तमान में खरीदे जा रहे फलों की शैल्फ लाईफ बढ़ाने के लिए फसल उपरांत प्रौद्योगिकी को विकसित करने की संभावनाएं खोज रही है। कंपनी ने सेब की खरीद के लिए हिमाचल में मौजूद सुविधा के पांच गुना विस्तार का प्रस्ताव रखा।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने फूड एंड इनस लिमिटेड के अध्यक्ष भूपेंद्र दलाल से भी मुलाकात की। कंपनी आम का पल्प के निर्यात से संबंध रखती है और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं खोज रही है। मुख्यमंत्री ने एसीसी लिमिटेड के सीईओ व एमडी नीरज अखौरी से जिला चम्बा में विस्तार योजनाओं के बारे में चर्चा की। इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री ने रिलाइंस ग्रुप के कार्यकारी निदेशक निखिल मीसवानी से मुलाकात कर रिटेल, कृषि विपणन और ‘हॉसपिटेलिटि’ आदि के बारे में चर्चा की। मुख्यमंत्री ने निवेशकों को धर्मशाला में होनी वाली ग्लोबल इंवेस्टस मीट में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया। उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, राम सुभाग सिंह और मनोज कुमार, प्रधान सचिव प्रबोध सक्सेना, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक और मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने मुम्बई में रोड़ शो में उद्यमियों को बताई प्रदेश में निवेश की संभावनाएं
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने आज मुम्बई में रोड़ शो के दौरान उद्यमियों, औद्योगिक घरानों व उद्योग जगत के ‘‘टाइकून’’ को संबोधित करते हुए भारत के उद्योगपतियों की भावनाओं की सराहना की जिन्होंने दुनियाभर में चैका देने वाले कार्य किए है। उन्होंने प्रतिभागियों को हिमाचल प्रदेश के विकास की कहानी का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश ने विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण कार्य किए हैं जिससे हिमाचल प्रदेश निवेश के लिए एक आदर्श गंतव्य बना है। उन्होंने कहा कि राज्य की अपराध दर देशभर में सबसे कम है। यहां पर शांतिप्रिय लोग है, नैसर्गिक वातावरण, सौहार्दपूर्ण औद्योगिक संबंध कुशल श्रम शक्ति आदि विद्यमान है। राज्य के पास स्थाई निवेश के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सभी क्षेत्रों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए अपनी औद्योगिक नीतियों के तहत आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान कर रहा है।
राज्य पर्यटन, वैलनेस सैंटर, शैक्षणिक व तकनीति संस्थानों, लॉजीस्टिक, अरोमा, आयूष हाउसिंग और रियल एस्टेट, आईटी एंड इंलैक्ट्रोनिक्स, इलैक्ट्रिक वाहनों, एमएसएमई आदि क्षेत्रों में अधिक निवेश के अनुकूल नीतियों ला रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य व्यवस्या को बेहतर बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है जोकि भारत सरकार द्वारा की गई रैंकिंग में स्पष्ट दिखाई देता है। उन्होंने कहा कि अब हम ईज ऑफ डूईंग रिफार्म में फास्ट मूवर्स श्रेणी में शीर्ष स्थान पर है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न औद्योगिक परियोजनाओं को मंजूरी देने में दक्षता, पारदर्शीता, समयबद्धता और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार ने राज्य में एकल खिड़की प्रक्रिया को आरंभ किया है जोकि राज्य सरकार की हिमाचल को औद्योगिक हब बनाने के लिए प्रदेश सरकार की मजबूत प्रतिबद्धता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि सरकार नवम्बर, 2019 में पहली बार धर्मशाला में ग्लोबल इंवेस्टर मीट का आयोजन करने जा रही है जो प्रदेशभर में एक समान विकास को बढ़ावा देने और इसे विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने और भारतीय राज्यों में एक अग्रणी राज्य बनाने की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। उन्होंने उद्यमियों से बैठक में भाग लेने की अपील करते हुए कहा कि वे राज्य के विकास के लिए अपने नए विचारो के साथ इंवेस्टर मीट को सफल बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते है।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने राज्य के प्राथमिकता क्षेत्रों जैसे पर्यटन, खाद्य प्रसंस्करण, फार्मास्युटिकलस, आईटी आदि क्षेत्रों को भी प्रस्तुत किया और प्रतिभागियों से इन क्षेत्रों में निवेश के अवसर तलाशने का आग्रह करते हुए कहा कि राज्य सरकार उन्हें सभी सुविधाएं एवं सहयोग प्रदान करेगी। उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह ने भी मुम्बई में संभावित निवेशकों को सम्बोधित किया। उन्होंने हिमाचल प्रदेश में निवेशको के लिए बनाए गए अनुकूल वातावरण पर बल दिया। उन्होंने प्रतिभागियों को 7-8 नवम्बर, 2019 में धर्मशाला में होने वाली हिमाचल प्रदेश ग्लोबल इंवेस्ट मीट के लिए आमंत्रित किया।


मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र सरकार से हिमाचल भवन के लिए भूमि प्रदान करने का किया आग्रह
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने आज मुम्बई में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेन्द्र फडनवीस से मुलाकात की। उन्होंने श्री देवेन्द्र फडनवीस से हिमाचल भवन के निर्माण के लिए मुम्बई में उपयुक्त स्थान उपलब्ध करवाने का आग्रह किया, जिससे हिमाचल प्रदेश के लोगों को मुम्बई प्रवास के दौरान सुविधा होगी। मुख्यमंत्री श्री देवेन्द्र फडनवीस ने उन्हें आश्वासन दिया कि महाराष्ट्र सरकार उनके आग्रह पत्र प्राप्त होने पर हिमाचल भवन के निर्माण के लिए उपयुक्त स्थान प्रदान करेगी। उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।


Comments