महिन्द्रा, गोदरेज और टाटा ग्रुप हिमाचल में करेंगे निवेश...

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के सराहनीय प्रयासों से हिमाचल प्रदेश विकास की नई ऊंचाई की ओर अग्रसर है। राज्य में स्वरोजगार और रोजगार के नए द्वार खुले इसके लिए मुख्यमंत्री जी प्रतिबद्ध है। इसके सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं। हम बात कर रहे हैं मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के विदेश एवं मुम्बई दौरे की। नामी निवेशकों को हिमाचल में निवेश की अपार संभावनाओं से अवगत करवाने एवं उन्हें आकर्षित करने की दृष्टि से मुख्यमंत्री इन दिनों दौरे पर हैं। इसी कड़ी में आज मुख्यमंत्री जी ने मुम्बई में एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल महिन्द्रा ग्रुप के अध्यक्ष आनंद महिन्द्रा के साथ बैठक की तथा उनसे प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में निवेश की संभावनाओं के बारे में विस्तार में चर्चा की। मुख्यमंत्री ने श्री महिन्द्रा से पर्यटन ऑटोमोबाईल और सूचना प्रौद्योगिकी आदि क्षेत्रों में विशेषकर निवेश करने पर विचार करने का आग्रह किया। श्री महिन्द्रा ने पर्यटन, रियल इस्टेट जैसे क्षेत्रों में निवेश के प्रति अपनी गहरी रुचि व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री द्वारा आरंभ की गई ‘‘नई राहें, नई मंजिलें’’ योजना की प्रशंसा की तथा इस योजना में साझेदारी करने की भी रुचि दिखाई। उन्होंने कहा कि महिन्द्रा ग्रुप ठियोग के अंतर्गत ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट के विस्तार के लिए 200 करोड़ रुपये निवेश करने जा रहा है, इससे 200 से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह ने कूड़े से ऊर्जा बनाने वाली परियोजना के लिए महिन्द्रा ग्रुप के प्रयासों की सराहना की तथा उनसे शिमला व धर्मशाला जैसे शहरों में पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में ऐसी परियोजनाएं लाने का आग्रह किया।
महिन्द्रा ग्रुप ने यह भी बताया कि यह ग्रुप हिमाचल प्रदेश में स्मार्ट सीटी परियोजनाओं के तहत इलेक्ट्रक बसे चलाने तथा इन्टेलिजन्ट यातायात व्यवस्था में भागीदार बनने की संभावनाएं तलाश रहा है। बैठक के दौरान, महिन्द्रा ग्रुप ने कूड़े से ऊर्जा बनाने में रुचि दिखाते हुए हिमाचल में निवेश करने की इच्छा व्यक्त की क्योंकि ‘‘पाईन कोन व पत्तियां’’ को ऊर्जा में परिवरतित करने की अपार संभावनाएं विद्यमान हैं।
इसके उपरांत, मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी की अध्यक्षता में प्रदेश सरकार के प्रतिनिधिमंडल ने गोदरेज ग्रुप के अध्यक्ष आदी गोदरेज से मुलाकात की और उनसे राज्य में एफएमसीजी व रियल इस्टेट सेक्टर में उनकी उपस्थिति बढ़ाने का अनुरोध किया। उन्होंने श्री गोदरेज को अवगत करवाया कि राज्य सरकार ने उद्योग के विकास के लिए उत्साहवर्धक और आशाजनक वातावरण बनाया है। उन्होंने यह भी आग्रह किया कि राज्य में ‘‘टूलरूम’’ स्थापित करने पर विचार किया जाए क्योंकि उनकी कंपनी की इस क्षेत्र में निपुणता है। उन्होंने गोदरेज ग्रुप के अध्यक्ष को धर्मशाला में नवम्बर माह में आयोजित होने वाली ग्लोबल इंवेस्टस मीट के लिए भी आमंत्रित किया। गोदरेज ग्रुप के अध्यक्ष ने प्रतिनिधिमंडल को सूचित किया कि वह अपने सभी व्यवसायों के बारे में एक उपयुक्त नोट भेजेंगे और राज्य में निवेश के अवसरों का पता लगाएंगे। अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, मनोज कुमार और राम सुभग सिंह, प्रमुख सचिव प्रबोद सक्सेना, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक और मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने मुम्बई में टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री रतन टाटा से भी मुलाकात की तथा उनसे प्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री ने श्री टाटा से प्रदेश में विशेषकर पर्यटन, आई.टी, इलैक्ट्रीक वाहन के निर्माण जैसे क्षेत्रों में निवेश की संभावनाओं पर विचार करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि क्योंकि देशभर में डीजल व पेट्रोल वाहनों के प्रयोग को कम करके इलैक्ट्रीक वाहनों को प्राथमिकता प्रदान की जा रही है जिसके कारण ऐसे वाहनों के निर्माण की व्यापक संभावनाएं विद्यमान है। उन्होंने टाटा ग्रुप से हिमाचल प्रदेश में बद्दी, परवाणू तथा नालागढ़ जैसे औद्योगिकी स्थल जोकि रेलवे सुविधा से जुड़े हुए है, ऐसे स्थलों में इलैक्ट्रीक वाहनों के निर्माण में निवेश के लिए आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार राज्य में निवेश के इच्छुक उद्यमियों के लिए अनेक सुविधाएं प्रदान कर रही है। इनमें भूमि बैंक, निर्वाध विद्युत आपूर्ति तथा जिम्मेवार प्रशासन जैसी ऐसी विशेषताएं है जो अन्य राज्यों से इस प्रदेश को विशेष बनाती है।
श्री टाटा ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि नवम्बर माह में होने वाली इंवेस्टर मीट से पहले टाटा ग्रुप के चेयरमेन की अध्यक्षता में हिमाचल सरकार के साथ एक संयुक्त टास्टफोर्स गठित की जाएगी ताकि प्रदेश में निवेश की संभावनाओं पता लगाया जा सके। उन्होंने यह भरोसा दिया कि टाटा सन्ज निश्चित तौर पर हिमाचल प्रदेश में कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में निवेश के लिए आगे आएगा। उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, राम सुभग सिंह, मनोज कुमार, प्रधान सचिव प्रबोध सक्सेना, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक और मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।



Comments

Post a Comment