मुख्यमंत्री ने दुबई में ICAI के सदस्यों से की मंत्रणा, हिमाचल में निवेश के लिए किया आमंत्रित

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने आज दुबई में इंस्टीच्यूट ऑफ चार्टर्ड अकांउटेंट्स ऑफ इंडिया को संबोधित करते हुए प्रवासी भारतीयों से हिमाचल प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित करने का आग्रह करते हुए कहा कि इससे वे प्रदेश के विकास का भागीदार बन सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को विश्व भर में निवेश के लिए प्रमुख गंतव्य के रूप में उभारने के उद्देश्य से राज्य में पहली बार निवशकों की बैठक का आयोजन किया जा रहा है। यह बैठक इस वर्ष नवंबर माह में धर्मशाला में आयोजित की जानी प्रस्तावित है। उन्होंने एसीएआई से अनुरोध किया कि वह अपने व्यवसाय सहयोगियों को हिमाचल में निवेश के लिए प्रेरित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को भारत के फल राज्य के रूप में जाना जाता है जहां सेब, प्लम, खुमानी, कीवी, अखरोट और नाशपाती आदि फलों को काफी उत्पादन किया जाता है। इस कारण प्रदेश में खाद्य प्रसंस्करण और संबंधित उद्योगां को स्थापित करने की काफी संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि निवेश को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार औद्योगिक नीति के तहत आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान कर रही है। इसे और अधिक आकर्षक बनाने के लिए हाल ही में उद्योग नीति में कई संशोधन भी किए गए है।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि राज्य में पर्यटन, ऊर्जा, वैलनेस केंद्रों, अधोसंरचना विकास, फार्मा, खाद्य प्रसंस्करण आदि क्षेत्रों में निवेश की बहुत संभावनाएं हैं। राज्य सरकार पर्यटन, आयुष, सूचना प्रौद्योगिकी, इलेक्ट्रॉनिक्स और जल विद्युत क्षेत्रों में निवेशकों की मांग के अनुरूप नीतियों का निर्धाकरण करने जा रही है। उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह ने इस अवसर पर विदेश में रह रहे भारतीय मूल के नागरिकों से आग्रह किया कि वे अपने संबंधित राज्यों के सतत् विकास में सहयोग के लिए अपना योगदाद देने के लिए आगे आएं। उन्होंने कह कि हिमाचल की सरकार और नौकरशाही बहुत सुलभ और ग्रहणशील है। दुबई में भारत के महावाणिज्य दूत विपुल ने भी एसीएआई के सदस्यों और प्रदेश् के प्रतिनिधिमंडल को संबोधित किया और यूएई में निवेशकों को लुभाने के लिए हिमाचल सरकार की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, मनोज कुमार और राम सुभग सिंह, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादिक और मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
निवेशकों को आकर्षित करने के लिए दुबई में रोड शो आयोजित
हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा गत् सायं दुबई में सी.आई.आई, हिमाचल चैप्टर के सहयोग से रोड शो आयोजित किया गया। इस अवसर पर उपस्थित उद्यमियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि हिमाचल में निवेश की अपार संभावनाएं विद्यमान है तथा सरकार ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। उन्होंने उद्यमियों से आगे आकर इन अवसरों का लाभ उठाने का आह्वान किया। इस समारोह का आयोजन इंडियन बिजनेस एंड प्रोफेशनल कॉउंसिल (आई.बी.पी.सी) द्वारा किया गया। रोड शो में बड़ी संख्या में शामिल होने के लिए उद्यमियों का आभार व्यक्त करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे यू.ए.ई के लोगों की भारत में निवेश करने के प्रति रुचि व प्रतिबद्धता का पता चलता है। उन्होंने कहा कि देश में पिछले चार-पांच वर्षों में आशातीत बदलाव आया है और हिमाचल प्रदेश ने भी इन वर्षों में खुद को काफी मजबूत किया है। उन्होंने उद्योग जगत के लोगों को हिमाचल में विद्यमान निवेश की संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए आमंत्रित किया।

हिमाचल में निवेशकों को उचित सुविधाएं प्रदान कर रही प्रदेश सरकार
राज्य सरकार द्वारा निवेश के लिए बनाई जा रही बेहतर नीतियों पर प्रकाश डालते हुए, मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि राज्य सरकार निवेशकों को राज्य में निवेश करने के लिए अनेक प्रोत्साहन व सुविधाएं प्रदान कर रही है। उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात के लोगों की कुशलता से कार्य करने की भावनाओं की भी भूरि-भूरि प्रशंसा की। उन्हांेने बताया कि राज्य सरकार धर्मशाला में ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट का आयोजन करने जा रही है तथा कहा कि इस प्रकार का आयोजन प्रदेश में पहली बार होने जा रहा है। राज्य के पास अनके विशेषताएं है जिससे निवेशकों को आकर्षित करने के सरकार के प्रयास फलीभूत होंगे। उन्होंने यू.ए.ई के लोगों को ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट में शामिल होने और हिमाचल प्रदेश में निवेश करने के लिए भी आमंत्रित किया।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि राज्य के पास राष्ट्रीय स्तर के अनेक प्रतिष्ठित संस्थान विद्यमान हैं जिसके परिणामस्वरूप प्रदेश में बेहतर प्रशिक्षित एवं शिक्षित मानव संसाधन शक्ति उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों, इंजीनियरिंग, मेडिकल व मैनेजमैंट कॉलजों की काफी संख्या होने के कारण यह प्रदेश उद्योग जगत की जरूरतों के अनुसार कुशल मानव शक्ति की आपूर्ति सुनिश्चित कर रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश देशी और विदेशी पर्यटकों द्वारा देश का सबसे पसंदीदा गंतव्य है और यह आगंतुकों को मनोरंजन के लिए एडवेंचर, वाईल्ड लाईफ, ईका-टूरिज्म, हेरिटेज, धार्मिक एवं आध्यात्मिक तथा स्किइंग आदि सभी प्रकार के अवसर उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस प्रदेश को एक सत्त पर्यटन राज्य के रूप में विकसित करने का प्रयास कर रही है ताकि हिमाचल को भविष्य में अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर एक बेहतरीन स्थल बनाया जा सके।
उद्योग मंत्री श्री ब्रिकम सिंह ने यू.ए.ई में रह रहे विभिन्न राज्यों के भारतीयों की अपने देश के सत्त विकास के प्रति भावनाओं की सराहना की। उन्होंने यू.ए.ई में भारतीय व्यापारिक समुदाय को प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए उनका आह्वान किया कि वे यहां निवेश करके राष्ट्र के विकास और लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में अपना योगदान दें। संयुक्त अरब अमीरात में भारत के राजदूत नवदीप सूरी ने यू.ए.ई और भारत के बीच प्रगाढ़ एवं निरंतर बढ़ते संबंधों के बारे में विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि दोनो देशों के शीर्ष नेताओं के घनिष्ठ व्यक्तिगत संबंधों के कारण द्विपक्षीय संबंध नई ऊंचाईयों तक पहुंचे है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यू.ए.ई के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित करना, एक जीवंत उदाहरण है। अतिरिक्त मुख्य सचिव व मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी ने आयूष, वैलनेस और रियल एस्टेट में निवेश की संभावनाओं की विस्तार में प्रस्तुति दी। उन्होंने आयूष और रियल एस्टेट में निवेश योग्य परियोजनाओं के बारे में भी बताया। उन्होंने आयुर्वेद में निवेशकों को आकर्षित करने के लिए राज्य के स्वस्थ पर्यावरण, विशाल वन सम्पदा आदि के बारे में बताया। उन्होंने हिमाचल प्रदेश में रियल एस्टेट की बड़ी आवश्यकता और भूमि बैंक की उपलब्धता के बारे भी जानकारी दी।
अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन राम सुभग सिंह ने पर्यटन क्षेत्र में निवेश के विभिन्न अवसरों पर एक प्रस्तुति दी। उन्होंने राज्य में उच्च स्तरीय पर्यटन को प्रोत्साहित करने और निवेश के लिए व्यावहारिक परियोजनाओं के बारे में जानकारी प्रदान की। अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग मनोज कुमार ने भी हिमाचल प्रदेश में निवेश के विभिन्न अवसरों पर एक प्रस्तुति दी। उन्होंने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए राज्य द्वारा किए गए विभिन्न सुधारों जैसे एकल खिड़की स्वीकृतियां, भूमि बैंक निर्माण और राज्य द्वारा प्रदान किए जा रहे विभिन्न प्रोत्साहनों के बारे में बताया। आई.बी.पी.सी, दुबई के अध्यक्ष निमीश मकवाना ने मुख्यमंत्री और सभी उपस्थित प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों का रोड शो में शामिल होने का आभार व्यक्त किया।
आई.बी.पी.सी दुबई के सुरेश कुमार ने भारतीय अर्थव्यवस्था की उच्च विकास दर की सराहना की। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश प्राकृतिक संसाधनों से संपन्न है और निवेश आकर्षण के अपने उद्देश्य को अवश्य प्राप्त करेगा। दुबई में भारत के महावाणिज्य दूतावास विपुल ने भी हिमाचल प्रदेश निवेश रोड शो में दर्शकों को संबोधित किया और कहा कि पिछले दो दिनों में मुख्यमंत्री की यू.ए.ई सरकार और बड़े व्यापारियों के साथ हाई प्रोफाइल बैठक आयोजित की गई हैं। हिमाचल प्रदेश सी.आई.आई के अध्यक्ष हरीश अग्रवाल ने हिमाचल प्रदेश के साथ उनके बीस वर्षों के निवेश के अनुभव को सांझा किया। उन्होंने कहा कि निवेशकों के लाभ के लिए राज्य के पास मेहनती श्रम शक्ति, ईमानदारी व काम करने के लिए अनुकूल वातावरण व प्रभावशाली तंत्र के लिए एकल खिड़की प्रणाली है। निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, विशेष सचिव आबिद हुसैन सादीक, मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह, उद्योग के प्रतिनिधि तथा उद्यमी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।



Comments

Post a Comment