ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के तहत ₹17,356 करोड़ के निवेश पर 159 MOU साइन, 40,000 लोगों को मिलेगा रोजगार

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने की हि.प्र. ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के तहत समझौता ज्ञापन समारोह की अध्यक्षता
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार देवभूमि को विकास की दृष्टि से शिखर तक पहुंचाने के लिए ऐतिहासिक कार्य कर रही है। प्रदेश सरकार हिमाचल में निवेश करने के इच्छुक उद्यमियों को और आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए उद्योग, पर्यटन, वेयरहाउस एवं लॉजिस्टिक, अरोमा, सूचना प्रौद्योगिकी, इलैक्ट्रिकल व्हीकल, फिल्म तथा आयुष के लिए नई नीतियां तैयार कर रही है। यह बात मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने 25 फरवरी, 2019 को शिमला में हिमाचल प्रदेश इन्वेस्टर मीट के तहत समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर समारोह की अध्यक्षता करते हुए कही। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं को शीघ्र स्वीकृतियां सुनिश्चित करने के लिए धारा-118 पर ऑनलाइन स्वीकृति प्रदान करने के लिए भी प्रयास किए जाएंगे। प्रदेश में निवेशकों को आकर्षित करने के लिए प्रदेश सरकार सकारात्मक सोच के साथ कार्य कर रही है। औद्योगिक समझौता ज्ञापन के अतिरिक्त पर्यटन, वैलनेस, परिवहन, आवास तथा भाषा, कला एवं संस्कृति इत्यादि के लिए भी समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि आज 159 समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए, जिससे प्रदेश में लगभग 17,356 करोड़ रुपये का कुल निवेश व 40,911 से भी ज्यादा लोगों के लिए रोजगार के अवसर सुनिश्चित होंगे। सार्वजनिक क्षेत्र में 1115 करोड़ रुपये के 3, उद्योग क्षेत्र में 5243 करोड़ के 88, पर्यटन एवं नागरिक उड्यन में 2810 करोड़ के 36, शहरी विकास में 4331 करोड़ के 17, भाषा कला एवं संस्कृतिक क्षेत्र में 25 करोड़ का एक, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण में 685 करोड़ रुपये के दो, आयुर्वेद क्षेत्र में 357 करोड़ रुपये के 6, सूचना एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र में 10 करोड़ रुपये का 1 तथा परिवहन क्षेत्र में 2780 करोड़ रुपये के 5 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए।
छोटे राज्य के बावजूद बड़े किए जा रहे कार्य
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि एक छोटे राज्य होने बावजूद हिमाचल प्रदेश बड़े कार्य कर रहा है तथा राज्य आज देश में अग्रणी राज्य के रूप में उभरा है। पहाड़ी राज्य की विभिन्न भौगोलिक कठिनाइयां के साथ-साथ प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियां विभिन्न क्षेत्रों में निवेश की अपार संभावनाएं भी प्रदान करती हैं। प्रदेश में निवेशकों के लिए अनेक आकर्षक प्रोत्साहन है। उन्होंने कहा कि प्रदेश देवभूमि के नाम से जाना जाता है तथा प्रदेश में लगभग शून्य अपराध दर, प्रतिक्रियात्मक व उत्तरदायी प्रशासन तथा निवेशक मित्र औद्योगिक नीति है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में कुल्लू, कांगड़ा तथा शिमला में 3 हवाई अड्डों के अतिरिक्त 63 क्रियाशील हैलीपैड हैं। प्रदेश में सभी क्षेत्रों को जोड़ने वाले राष्ट्रीय उच्च मार्गों का बेहतर नेटवर्क उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में उद्योग, पर्यटन, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, खाद्य प्रसंस्करण आदि क्षेत्रों में निवेश की अपार संभावनाएं हैं।
नई औद्योगिक नीति के हैं बड़े लक्ष्य 
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि नई औद्योगिक नीति का उद्देश्य प्रदेश में स्टेट-ऑॅफ-द-आर्ट अधोसंरचना स्थापित करना, निर्माण क्षेत्र को बढ़ावा देना, समावेश बढ़ाना, नवोन्मेष को प्रोत्साहित करना तथा विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर सृजित करना है। उन्होंने कहा कि नए उद्योग स्थापित करने या उद्योग में विस्तार करने के इच्छुक उद्यमियों/उद्योगपतियों को केंद्र सरकार के औद्योगिकी नीति एवं संवर्धन विभाग की औद्योगिक विकास योजना के तहत उनके संयंत्र तथा मशीनरी पर 30 प्रतिशत पूंजी निवेश उपदान दिया जाएगा, जोकि अधिकतम 5 करोड़ रुपये होगा। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हमारी सरकार इस वर्ष जून माह में धर्मशाला में ‘ग्लोबल इन्वेस्टर मीट’ आयोजित करने की योजना बना रही है, जिसमें पर्यटन, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी, शिक्षा और कौशल विकास, स्वास्थ्य देखभाल और आयुष, विनिर्माण, फार्मासियूटिकल, अधोसंरचना और लॉजीसिक्टस, ऊर्जा एवं नवीकर्णिय ऊर्जा, एग्रो और खाद्य प्रसंस्करण जैसे उभरते क्षेत्रों पर विशेष बल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इनमें से प्रत्येक क्षेत्र निवेश के पर्याप्त अवसर प्रदान करते है जबकि क्षेत्र विशेष को लक्षित करती नीति निवेशकों के हितों को प्रोत्साहित करती है।
हमारा प्रयास हिमाचल को देश के श्रेष्ठ निवेश गतंव्य बनाना : मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि हमारी सरकार हिमाचल प्रदेश को देश के श्रेष्ठ निवेश गतंव्य बनाने का प्रयास कर रही है। राज्य सरकार सुक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों के विकास के लिए व्यापारिक भागीदारी पर विशेष बल दे रही है। उन्होंने कहा कि जबसे वर्तमान सरकार सत्ता में आई है सरकार ने राज्य में व्यापार करने में बेहतरी के लिए महत्त्वपूर्ण प्रयास किए हैं, जोकि केंद्र सरकार द्वारा सुधारी गई रैंकिंग में दिखाई पड़ रहा है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में चार समृद्ध धरोहर स्मारकों के संरक्षण, प्रचार एवं प्रबंधन के लिए कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व निधि के अंतर्गत भी समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। इसके अंतर्गत ‘‘आज पुरानी राहों से’’ नामक योजना के तहत सापरी किला, कालका शिमला हेरीटेज रेलवे लाईन, निरमंड परशुराम मंदिर तथा किन्नौर के छितकुल गांव को धरोहर के रूप में संजोए रखने पर कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पर्यटन मंत्रालय की ‘‘एडोप्ट अ हेरीटेज’’ योजना, जिसमें कॉर्पोरेट घरानों द्वारा कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व निधि की जरूरत होती है, के तहत पहली बार प्रदेश की सांस्कृतिक धरोहर को लाभ मिलेगा।
हिमाचल की प्रगति में पर्यटन को बनाएंगे प्रमुख : उद्योग मंत्री 
उद्योग मंत्री श्री बिक्रम सिंह ठाकुर जी ने कहा कि हिमाचल सरकार प्रदेश को एक वैश्विक पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित कर पर्यटन को प्रदेश की प्रगति में प्रमुख भूमिका प्रदान के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य में अनुकूल वातावरण, उत्तरदायी प्रशासन और निवेशक मित्र औद्योगिक नीति होना गर्व की बात है। इसी मौके पर मुख्य सचिव श्री बी.के अग्रवाल जी ने मुख्यमंत्री जी तथा गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि पहाड़ी राज्य होने के नाते हिमाचल प्रदेश विकास की अपार संभावनाएं प्रस्तुत करता है। प्रदेश में प्रतिभा और शैक्षणिक वातावरण उपलब्ध है। राज्य में आई.आई.टी. मंडी और आई.आई.आई.टी. ऊना आदि जैसे राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त प्रमुख शैक्षणिक संस्थान मौजूद है। अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग मनोज कुमार ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।

Comments

Post a Comment