स्वयं झेली हैं समस्याएं, अब जनता को नहीं झेलने दूंगा : मुख्यमंत्री

 
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि हमने स्वयं समस्याएं झेलकर सरकारी कार्यालयों में काम करवाएं हैं, एक छोटे से कार्य करवाने के लिए 6 माह तक दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे, लेकिन अब जनता के साथ ऐसा नहीं होने देंगे। जनता की हर समस्या का समाधान करने के लिए हमने जनकल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं ऐसे में अधिकारियों को इन योजनाओं के तहत जमीनी स्तर पर कार्य करने की जरूरत है। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी प्रदेश के सभी जिलों के जिलाधीशों और पुलिस अधीक्षकों के सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हमारी सरकार की नीतियों व कार्यक्रमों के प्रभावी कार्यान्वयन में अधिकारियों विशेषकर उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों जैसे फील्ड अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। विकास का लाभ लक्षित समूहों तक समयबद्ध सुनिश्चित बनाने में भी इन अधिकारियों की विशेष जिम्मेवारी है। 
हमारी सरकार के 8 माह के कार्यकाल के दौरान कुछ नई मुख्य विकास योजनाओं के प्रभावी कार्यान्वयन में सफल रही है, जिसका श्रेय अधिकारियों की मेहनत को जाता हैहमारी सरकार ने अपने पहले बजट में 30 नई योजनाओं की घोषणा की है, जो समाज के लगभग सभी वर्गों का विकास को सुनिश्चित बनाती है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है इन सभी योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित बनाया जाए। अनेक परियोजनाएं वर्तमान हमारी सरकार की सोच है और इन्हें केन्द्र सरकार को वित्तपोषण के लिए भेजा गया है। इन योजनाओं में से अधिकतर को केन्द्र सरकार द्वारा मंजूरी प्रदान की गई है, जिससे प्रदेश सरकार की विकास की पहल को बढ़ावा मिलेगा।
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि सभी उपायुक्तों तथा पुलिस अधीक्षकों को आम जनमानस के साथ नियमित रूप से बैठकें करनी चाहिए ताकि सही फीड बैक प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा कि लोगों से सीधा संवाद प्रदेश के लोगों की ज़रूरतों व अपेक्षाओं के अनुरूप नीतियां व योजनाएं तैयार करने में भी सहायक सिद्ध होता है।
मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि अति विशिष्ट व्यक्तियों के दौरों के दौरान पॉयलट वाहन के रूप में उपयोग करने के लिए प्रत्येक जिले को वाहन उपलब्ध करवाया जाएगा।
उन्होंने कहा कि राज्य ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य कर राष्ट्र स्तर पर अनेक पुरस्कार प्राप्त किए हैंजिसके लिए उन्होंने राज्य सरकार के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी।

देवभूमि की बेटियों की सुरक्षा हमारा फर्ज  
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि देवभूमि’ हिमाचल  की बेटियों की सुरक्षा हमारा फर्ज है। प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित बनाने के लिए गुड़िया हैल्पलाइन व शक्ति एप्प आरम्भ किए गए हैं। महिला उत्पीड़न जैसे मामलों को रोकने के लिए कानून व्यवस्था को और मजबूत किया जाएगा। हालांकि हिमाचल पुलिस प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था की बेहतर स्थिति बनाए रखने में सराहनीय कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि उपायुक्तों की भूमिका महज कानून व व्यवस्था बनाए रखना ही नहीं है, बल्कि अपने क्षेत्राधिकार में राज्य सरकार की नीतियों व कार्यक्रमों के प्रभावी कार्यान्वयन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
नशे को जड़ से उखाड़ने के लिए करेंगे हरसंभव कार्य 
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हिमाचल में नशे का बढ़ता प्रचलन चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नशे को जड़ से उखाड़ने के लिए हरसंभव कार्य किए जाएंगे। इस सामाजिक बुराई के विरूद्ध सख्ती से निपटा जाएगा। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उनकी पहल से 4 पड़ोसी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चंडीगढ़ में नशे की समस्या से निपटने के लिए बैठक कर रणनीति बनाई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नशे के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जाएगा और इसमें उपायुक्तों तथा पुलिस अधीक्षकों की अहम भूमिका रहेगी।

बरसात से प्रभावित परिवारों को दी 230 करोड़ की सहायता
8 घंटे से अधिक समय तक चली मुख्यमंत्री जी की अध्यक्षता वाली बैठक में प्रदेश में भारी बारिश से हुए नुकसान को लेकर भी चर्चा की। जानकारी दी गई कि भारी वर्षा के कारण 1180.40  करोड़ रुपए की सार्वजनिक तथा निजी सम्पत्तियों का नुकसान हुआ है और अभी तक प्रभावितों को 230 करोड़ रुपए की सहायता प्रदान की गई है। शहरी क्षेत्रों और विशेषकर पर्यटन स्थलों में अनाधिकृत निर्माण से निपटने पर विस्तृत चर्चा की गई। यह निर्णय लिया गया कि वन भूमि पर अवैध निर्माण एवं अतिक्रमण की निगरानी के लिए हर महीने बैठक की जाएगी। कांगड़ाशिमलासोलन तथा कुल्लू के उपायुक्तों ने अवैध निर्माण एवं अतिक्रमण को नियंत्रित करने पर बहुमूल्य सुझाव दिए।

गजट्स ऑनलाइन उपलब्ध करवाने में हिमाचल बना देश का पहला राज्य 
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने वर्ष 1953 से डिजिटल गजिटियर (राजपत्र) का भी शुभारम्भ किया। अब यह गज़ट प्रदेश राजपत्र पोर्टल http://rajpatrahimachal.nic.inपर ऑनलाइन उपलब्ध होगा। इसके शुभारम्भ होने से हिमाचल ऐसा पहला राज्य बन गया है जिसके सभी राज्य गजट्स ऑनलाइन उपलब्ध हैं। प्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य भी है, जो दैनिक आधार पर ऑनलाइन गजट्स प्रकाशित कर रहा है।
राजस्व विभाग की एप्प का किया शुभारंभ
मुख्यमंत्री जी ने राजस्व विभाग के 3 एप्प का भी शुभारम्भ किया। इनमें एकीकृत भू-नक्शा जमाबन्दी, जागरूकता जिंगल्ज व सर्कल रेट एण्ड्रॉयड एप्प शामिल हैं। इन एप्प से लोगों को उनकी ज़मीन का नक्शा 5 दिनों के भीतर प्राप्त होने की सुविधा होगी। इसके अतिरिक्त भूमि की वृत दर भी एन्डरॉयड फोन पर एक क्लिक पर उपलब्ध होगी। इन एप्प को राजस्व विभाग ने राज्य एनआईसी के सहयोग से विकसित किया है। इसके आलावा मुख्यमंत्री जी ने सिरमौर के उपायुक्त द्वारा विकसित एप्प माई डीसी’ का भी शुभारम्भ किया। 

समयपूर्वक निपटाई जा रहीं हेल्पलाइन पर दर्ज शिकायतें
बैठक में अधिकारियों द्वारा यह भी जानकारी दी गई कि होशियार सिंह हेल्प लाइन के तहत 855 शिकायतें प्राप्त हुई, जिनमें से 840 शिकायतों का समाधान किया गया है। गुडिया हेल्पलाइन के अन्तर्गत प्राप्त 892 शिकायतों में से 867 का निपटारा किया गया है। इस अवधि के दौरान 172 वाहनों को जब्त किया गया है, जबकि पिछले वर्ष कुल 20 वाहन जब्त किए गए थे। इसी प्रकार, वन अधिनियम के अन्तर्गत पिछले वर्ष पंजीकृत किए गए 125 मामलों की तुलना में 200 मामले पंजीकृत किए गए हैं।


"जनमंच कार्यक्रम" में अधिकारियों की ढिलाई नहीं चलेगी
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि जनता की समस्याओं का समाधान घरद्वार पर ही करने के लिए "जनमंच कार्यक्रम" को तव्वजो दी जा रही है और इसके सफल परिणाम भी आ रहे हैं। ऐसे में अधिकारियों को इसे गंभीरता से लेना होगा। मुख्यमंत्री जी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जनमंच के सफल आयोजन के लिए पहले से ही उचित तैयारियां की जानी चाहिए और इसके लिए किसी भी अधिकारी की ढील नहीं चलेगी। उन्होंने कहा कि जनता को सरकार एवं प्रशासन से काफी अपेक्षाएं होती हैं। ऐसे में हमें जनता की समस्याओं को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए बल्कि लोगों के बीच जाकर समस्या का हल करना चाहिए

Comments

  1. Sir I have registered my complaint on e-samadhan but it still pending till now.

    ReplyDelete
  2. Hii sir sbse bdi problem hi nokri agr hr garib Ghar see ek preson nokri hoga to koi yojna ki jrurt n hogi kauki sbse bdi jrurt h money money hogi to sbkuch milga plzz grib ko govt job dilae

    ReplyDelete
  3. श्रीमान जी, रास्ते और सड़को के साथ नालियां बरसाती पानी के लिए ही होनी चाहिए न कि लोगों के गंदे पानी के लिए!
    जैसे सार्वजनिक स्थान पर धुम्रपान करने पर चालान काटा जाता है बैसे ही गांव और शहर में रास्तों पर अपनी गंदगी डालने वालों और दूसरे लोगों को अपनी गंदगी से पीड़ित करने बालों के चालान काटने का कानून नियम होना चाहिए.. हर सप्ताह पुलिस या अन्य विभाग को इस कार्य क्षेत्र में घूम घूम कर करना चाहिए... 3-4चालान काटने के बाद , न मानने वाले के बिरूद्ध सख्त कार्यवाही करने चाहिए.. जैसे नौकरी बाला डिशमिश, पैंशन बाले की पैंशन बंद, नीजी कार्य बालों के विजली पानी राशन बगैरा बंद कर देनी चाहिए!अगर कर्मचारी उपलब्ध नहीं है तो हमें जॉब पर रख लो!

    ReplyDelete

Post a Comment